Tuesday, April 25, 2017

What is Karate

कोमो हेंसिरो
Karate (空手?)  यूक्यू द्वीप समूह में विकसित एक मार्शल आर्ट है जो अब ओकिनावा, जापान में है। इसका विकास देशी युद्ध पद्धति से हुआ था जिसे te (手 literally: "hand"?) और चीनी केम्पो कहते हैं।  कराटे एक प्रहार कला है जिसमें मुक्केबाजी, पाद प्रहार और घुटना प्रहार और मुक्त-हस्त प्रौद्योगिकी जैसे नाइफ-हैंड्स (कराटे चोप) के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

कुछ शैलियो में ग्रेपलिंग, लॉक्स, अटकाव, थ्रो और महत्वपूर्ण बिंदुओं पर प्रहार करना सिखाया जाता है। एक कराटे अभ्यस्त कर्मी को karateka (空手家?) कहा जाता है।
19 वीं शताब्दी में जापान द्वारा यूक्यु साम्राज्य को मिलाने से पहले यहां कराटे को विकसित किया गया था। जापानी और यूक्यूवांश के बीच सांस्कृतिक आदान-प्रदान के समय के दौरान 20वीं शताब्दी की प्रारम्भ में इसे जापान की मुख्य भूमि में शामिल किया गया था। 1922 में जापान के शिक्षा मंत्रालय ने गिचिन फुनाकोशी को कराटे के प्रदर्शन के लिए टोक्यो आमंत्रित किया था। 1924 में केइयो विश्वविद्यालय ने पहला विश्वविद्यालय कराटे क्लब की स्थापना की और 1932 तक प्रमुख जापानी विश्वविद्यालयों में कराटे क्लब खुल चुके थे। जापानी सैन्यवाद के इस बढ़ते युग में,इसका नाम 唐手 से परिवर्तन हुआ और ("चाइनीज हैंड") से 空手 ("एम्टी हैंड") हो गया - जापानी शैली में युद्ध रूप को विकसित करने की जापानी अभिलाषा का संकेत देने के लिए दोनों को कराटे ही कहा गया। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद ओकिनावा संयुक्त राज्य सैन्य का एक महत्वपूर्ण स्थान बन गया और वहां तैनात सैनिकों के बीच कराटे लोकप्रिय बन गया।

मास्टर गिचिन फुनाकोशी 
1960 और 1970 के दशक की फिल्मों के चलते मार्शल आर्ट की लोकप्रियता में काफी इजाफा हुआ और कराटे शब्द का प्रयोग सभी प्रहार-आधारित ओरिएंटल मार्शल आर्ट का उल्लेख करने के लिए एक सामान्य तरीके की शुरूआत की गई। उसके बाद दुनिया भर में कराटे स्कूल खुलने लगे थे और कम रूचि के साथ-साथ जो आर्ट का गहन अध्ययन करना चाहते थे, दोनों की आवश्यकताओं को ध्यान में रख कर स्कूलों को खोला गया।

शोटोकोन डोजो के मुख्य प्रशिक्षक शिगेरु एगामी ने कहा कि "विदेशी देशों में कराटे के अनुयायी कराटे का अनुसरण केवल लड़ाई के तकनीक के लिए करते हैं।..फिल्म और टेलीविजन...कराटे को एक रहस्यमयी युद्ध शैली के रूप में दर्शाया गया है जिसमें बताया गया है कि उसमें एक घूंसा भी चोट या मौत का कारण बनने में सक्षम होता है।.. और मास मीडिया इस छद्म कला को वास्तविकता से कहीं दूर ले जाती है।" शोशिन नागामाइन ने कहा कि "कराटे को, अपने भीतर के संघर्ष के रूप में या एक जीवन-भर के मैराथन के रूप में जिसे केवल स्व-अनुशासन के माध्यम से जीता जा सकता है, कठिन प्रशिक्षण और स्वयं के रचनात्मक प्रयास को सुविचारित किया जा सकता है।"

कई अभ्यासकर्ताओं के लिए कराटे एक गहरा दार्शनिक अभ्यास है। कराटे- नैतिक सिद्धांतों और उसके अनुयायियों के लिए आध्यात्मिक महत्व को सिखाता है। गिचिन फुनाकोशी ("आधुनिक कराटे के जनक") ने अपनी आत्मकथा कराटे-डु: माई वे ऑफ लाइफ का शीर्षक कराटे अध्ययन के कायांतरित प्रकृति को मान्यता देने के लिए दिया। वर्तमान में कराटे का अध्ययन आत्म-पूर्णता के लिए, सांस्कृतिक कारणों के लिए, आत्म-रक्षा के लिए और एक खेल के रूप में किया जाता है। 2005 में, 117वें IOC (अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति में कराटे को एक ओलिंपिक खेल बनाने के लिए आवश्यक दो तिहाई बहुमत वोट प्राप्त नहीं हुआ था।
किन्तु अब 2020 टोक्यो ओलिंपिक खेलों के लिए कराटे को एक खेल विधा के तौर शामिल किया गया है

Monday, April 10, 2017

Welcome to UMAA